Amarnath Cave Image source: Google Image

Amarnath Yatra 2019 अमरनाथ यात्रा 2019

यदि आप इस साल बाबा अमरनाथ के दर्शनों की योजना बना रहे हैं तो यह खबर आपके काम की है। अमरनाथ यात्रा का रजिस्ट्रेशन आरम्भ हो चुका है।

यह तो हम सभी जानते हैं की भारतीयों के लिये अमरनाथ यात्रा का महत्व कितना ज़्यादा है। यह यात्रा बेहद कठिन यात्राओं की श्रेणी में आती है जिसके लिये आपका शारीरिक और मानसिक रूप से तैयार होना बहुत आवश्यक है। यदि आप आप साल 2019 में यात्रा की योजना बना रहे हैं तो वह समय आ चुका है जब आपको तैयारियां आरम्भ कर देनी चाहिये।

इस साल यात्रा 1 जुलाई से शुरू होकर 15 अगस्त अथार्त 46 दिनों तक चलेगी। यात्रा के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू हो चुके हैं। यात्रा के दो रूट हैं – पहला पहलगाम के रास्ते जो की 48 किलोमीटर (एक तरफ) लम्बा है, दूसरा रूट बालटाल से होकर है जो की 14 किलोमीटर (एक तरफ) लम्बा है। सुरक्षित और कम थकन भरा रास्ता होने के कारण अधिकतर यात्री पहले रास्ते से ही जाते हैं।

श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड के अधिकारीयों के अनुसार यात्रा के लिए परमिट आवश्यक है। परमिट एक निश्चित दिन और मार्ग के लिए वैध होगा। बिना परमिट यात्रा नहीं की जा सकेगी। परमिट, पंजीकरण के बाद ही जारी किए जाएंगे।

(आदि कैलाश यात्रा के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियाँ पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।
कैलाश मानसरोवर यात्रा के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियाँ पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।
गंगोत्री यात्रा के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियाँ पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।
बाबा तुंगनाथ चोपता यात्रा के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियाँ पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें।)

यात्रा का रजिस्ट्रेशन पंजाब नैशनल बैंक की 440 शाखाओं और जम्मू-कश्मीर बैंक की सभी शाखाओं में करवाया जा सकता है। पंजीकरण करवाते समय तीर्थयात्रियों को एक स्वास्थ्य प्रमाणपत्र (CHC) देना होगा, जो कि बेहद जरूरी है।

अन्य जानकारियों के लिये बाबा अमरनाथ श्राइन बोर्ड की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

Amarnath Yatra Image source: Google Image
Amarnath Yatra Image source: Google Image

अमरनाथ यात्रा का महात्मय

अमरनाथ यात्रा हर साल जम्मू और कश्मीर के पहलगाम से आयोजित की जाती है। अमरनाथ यात्रा पहलगाम से अमरनाथ की पवित्र गुफा पर खत्म होती है जो श्रीनगर से करीब 141 किलोमीटर दूर है। इस यात्रा को हिंदू धर्म में काफी पवित्र माना जाता है। अमरनाथ की पवित्र गुफा चारो ओर बर्फ के पहाड़ों से ढकी रहती है साल में केवल कुछ समय के लिए लिए गुफा से बर्फ हटती है तब यह श्रद्धालुओं के लिए खोली जाती है। चुनौतीपूर्ण पहाड़ी रास्तों से गुजरकर हर साल लाखो श्रद्धालु इस यात्रा को पूरा करते हैं।

ऐसी मान्यता है कि भगवान शिव ने अमरनाथ की गुफा में ही देवी पार्वती को अमर होने का रहस्य बताया था। शिव जी ने कहा था कि, कैसे ब्रह्मा, विष्णु और वह स्वयं सृष्टि के अंत हो जाने पर भी अनंत बने रहते हैं।

40 मीटर ऊंची अमरनाथ गुफा के अंदर प्रतिवर्ष अपने आप बर्फ से शिवलिंग का निर्माण होता है। महाभारत और अन्य पुराणों में भी इस तीर्थ का वर्णन है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इसी गुफा में भगवान शिव ने माता पार्वती को अमरता और जीवन से जुड़े रहस्यों के बारे में बताया था, जिन्हें दो कबूतरों ने सुन लिया। उन कबूतरों के जोड़े को अब भी इस गुफा में देखा जाता है। कहा जाता है महर्षि भृगु ने सबसे पहले इस गुफा की खोज की थी।

यह एक कठिन यात्रा है तो इस यात्रा के लिए तैयारियाँ पहले से ही शुरू कर देनी चाहिए। साथ – साथ ही एक पहाड़ी क्षेत्र होने के कारण इस मार्ग पर कई नियमों का पालन कड़ाई से किया जाना आवश्यक है।

जैसे की :-

  • मौसम कभी भी बदल सकता है इसलिए विंडचीटर, रेनकोट, वाटरप्रूफ ट्रेकिंग कोट, टॉर्च, मंकी कैप, ग्लव्स, जैकेट, ऊनी जुराब, वाटरप्रूफ पायजामा वगैरह अपने साथ रखें।
  • अपने पास पर्याप्त कपड़े तो रखने के साथ – साथ सिर पर इलास्टिक से फंसाने वाली छोटी छतरी भी रखें।
  • साड़ी में पैदल यात्रा करना मुश्किल होता है इसलिये महिलायें सलवार-सूट, ट्रैक सूट या कुछ कंफर्टेबल कपड़े पहनें।
  • रास्ते में खाने के लिए बिस्किट, नमकीन, चिप्स और कुछ स्नैक्स आदि अवश्य रखें। पानी का इंतजाम भी रखें।
  • अमरनाथ श्राइन बोर्ड के द्वारा बताए गए सभी नियम – कायदों का पालन करें।
  • अपने साथ इमरजेंसी के लिए कुछ पेन किलर और बुखार की दवा भी रखें।
  • अमरनाथ यात्रा से जुड़ी अन्य जानकारियों के लिये आप अमरनाथ श्राइन बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट पर भी नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक करके विजिट कर सकते हैं।
    http://www.shriamarnathjishrine.com/
0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
6 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Kavita
Kavita
April 7, 2019 3:51 pm

बहुत अछि जानकारी दी है आप ने और साथ ही साथ ऑनलाइन रागेस्ट्रेशन लिंक देकर सारे प्रॉब्लम ही सॉल्व कर दे धन्यवाद इतने अच्छे से बताने के लिए.👍👌

संगीता
संगीता
April 7, 2019 3:52 pm

बहुत अच्छा लिखा है आप ने .

चित्रदेव शर्मा
चित्रदेव शर्मा
April 26, 2019 5:08 am

बहुत रोचक तरीके ज्ञानवर्धन जानकारी सांझा की है आपने। बहुत -बहुत धन्यवाद