मेरे बारे में

यात्री नामा एक प्रयास है आप सभी को घुमक्कड़ी के नये – नये ठिकानों से अवगत करवाने का। कुल्लू – मनाली, शिमला, मसूरी आदि तो हम सभी जाते हैं, लेकिन क्या आप को नहीं लगता की अब कुछ नया करना चाहिए ? कुछ नये आयामों को तलाशना चाहिए ? इसी इच्छा को पूरा करने के लिए इस ब्लॉग को शुरू किया गया। यहाँ आप पढ़ेंगे मेरे यात्रा अनुभव। साथ – साथ आप को जानकारियां मिलेंगी ऐसे स्थानों के बारें में जिनके बारे में हम कम ही जानते हैं। यह ब्लॉग केवल वन – वे – कम्युनिकेशन बन कर न रह जा जाये, इसलिए यदि आप भी अपने अनुभव साझा करना चाहते हैं, तो अपने यात्रा वृतांत हमें pandeyumesh265@gmail.com पर ई-मेल कर सकते हैं।

ब्लॉग के बारे में बताते – बताते मैं अपने बारे में बताना भूल ही गया। मेरा नाम उमेश पाण्डेय है और मैं दिल्ली में रहता हूँ। वैसे मेरा जन्म स्थान भी यही शहर है पता नहीं क्यों आज तक इस शहर से जुड़ाव महसूस कर ही नहीं पाया। मेरे माता – पिता वाराणसी से हैं और मुझे भी स्वयं को बनारसी कहलाना ज़्यादा अच्छा लगता है। शिक्षा दिल्ली में ही पूरी हुई और वर्तमान में गुरुग्राम में नौकरी कर रहा हूँ। घुमक्कड़ी का शौक बचपन से था या बाद में लगा, यह तो याद नहीं लेकिन अगस्त 2011 में घटी एक घटना ने मुझे घुमक्कड़ या यूँ कहें की यायावर बना कर रख दिया।

जब यात्रायें करने लगा तो पढ़ने का भी शौक लगा। यात्रा वृतांत पढ़ना मुझे सबसे अच्छा लगता है और इसी शौक ने मुझे ‘यात्रीनमा’ ब्लॉग बनाने की ओर प्रेरित किया और फिर मैं भी निकल पड़ा अपने अनुभव आप सभी से बाटने।

यदि आपके पास भी कोई यात्रा वृतांत या यात्राओं से जुडी हुई कोई जानकारी है तो आप मेरे सोशल मीडिया पेज यात्रीनामा पर शेयर कर सकते हैं या फिर पर pandeyumesh265@gmail.com ई-मेल भी कर सकते हैं।

धन्यवाद।

0 0 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments