Bodh gaya

बिहार के कुछ प्रमुख पर्यटन स्थल Some famous tourist places in Bihar

जब भी घुमक्कड़ी की बात आती है तो सबसे पहले दिमाग में आती हैं हिमालय की वादियां, गोवा के समुद्री किनारे, राजस्थान का रेगिस्तान और पूर्वोत्तर, लेकिन क्या कभी आपके दिमाग में बिहार का विचार आया है? जिस भूमि ने दुनिया में ज्ञान का प्रकाश बिखेरा और जिस भूमि से उपजे सम्राटों ने अखण्ड भारत पर शाशन किया उसे हम क्यों भूल जाते हैं? खैर… कारण जो भी हों लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं बिहार में घूमने के स्थान जहाँ आपको अवश्य जाना चाहिये।

1. वाल्मीकि राष्ट्रीय अभयारण्य, पश्चिमी चम्पारण

Valmiki National Park Bihar
Valmiki National Park Bihar Image source: Protkarsh Kumar

नज़दीकी रेलवे स्टेशन: देवरिया सदर और सिवान जंक्शन
नज़दीकी हवाई अड्डा: पटना

वाल्मीकि राष्ट्रीय उद्यान या वाल्मीकि नेशनल पार्क पश्चिमी चंपारण जिले में शिवालिक पर्वत की तराई में स्थित है। पूर्ण रूप से हरियाली से भरपूर यह अभयारण्य बिहार का एक बेहद खूबसूरत स्थान है। यह अभ्यारण्य उत्तर में नेपाल के रॉयल चितवन नेशनल पार्क और पश्चिम में गंडक नदी से घिरा हुआ है।यहां पर आप विभिन्न प्रकार के पशु जैसे की बाघ, भेड़िये, हिरण, सियार, चीते, अजगर, चीतल, सांभर, नील गाय, लकड़बग्घा, और एक सींग वाले गैंडे जो की चितवन से निकल कर आ जाते हैं, देख सकते हैं।

प्रसिद्ध पर्वतीय स्थल भिखना ठोरी जहाँ आप हिमालय की वादियों की हवाओं का आनंद ले सकते हैं, यहीं स्थित है।

 

2. विक्रमशिला विश्वविद्यालय के अवशेष, भागलपुर

Vikramshila University, Image source: Google Image
Vikramshila University, Image source: Google Image

नज़दीकी रेलवे स्टेशन: भागलपुर
नज़दीकी हवाई अड्डा: पटना

भागलपुर शहर से लगभग 50 किलोमीटर पूर्व में स्थित प्राचीन विक्रमशिला विश्वविद्यालय के अवशेष एक अंतर्राष्ट्रीय स्तर का पर्यटन केंद्र है। इस विश्वविद्यालय की स्थापना पाल वंश के राजा धर्मपाल ने आठवीं शताब्दी के अंतिम वर्षों में की थी। लगभग चार शताब्दियों तक अस्तित्व में रहने के बाद यह तेरहवीं शताब्दी में नष्ट कर दिया गया था।

 

3. नवलखा पैलेस, मधुबनी

Naulakha Palace, Image source: Google Image
Naulakha Palace, Image source: Google Image

नज़दीकी रेलवे स्टेशन: दरभंगा जंक्शन और समस्तीपुर जंक्शन
नज़दीकी हवाई अड्डा: पटना

नवलाखा पैलेस बिहार में मधुबनी के पास राजनगर में स्थित है। महाराजा रामेश्वर सिंह ने इस महल का निर्माण कराया था। वर्ष 1934 में भूकंप के कारण इस महल को भयंकर विनाश का सामना करना पड़ा था। विनाश के बाद कोई पुनर्निर्माण न होने के कारण अब यह महल अवशेष के रूप में ही है, फिर भी इसकी वास्तुकला आज भी किसी को भी आश्चर्यचकित कर देती है। महल के परिसर में उद्यान, तालाब और मंदिर हैं।

4. सीतामढ़ी

Sitamarhi, Image source: Google Image
Sitamarhi, Image source: Google Image

नज़दीकी रेलवे स्टेशन: दरभंगा जंक्शन और मुजफ्फरपुर जंक्शन
नज़दीकी हवाई अड्डा: पटना

माँ सीता के जन्मस्थली के रूप में विख्यात सीतामढ़ी बिहार का प्रमुख धार्मिक शहर है। सीतामढ़ी के पूनौरा नामक स्थान पर राजा जनक ने जब खेत में हल जोता तो धरती माँ सीता का अवतार हुआ था। सीतामढ़ी के प्रमुख पर्यटन स्थल हैं जानकी स्थान मंदिर, उर्बीजा कुंड, हलेश्वर स्थान, पंथ पाकड़, बगही मठ आदि प्रमुख है।

 

5. वैशाली

Vaishali, Image source: Google Image
Vaishali, Image source: Google Image

नज़दीकी रेलवे स्टेशन: मुजफ्फरपुर जंक्शन और सोनपुर जंक्शन
नज़दीकी हवाई अड्डा: पटना

वैशाली में ही विश्व के सबसे पहले गणतंत्र की स्थापना की गयी थी। वैशाली, भगवान महावीर की जन्म स्थली होने के कारण जैन धर्म के मतावलम्बियों के लिए एक पवित्र नगरी है। वैशाली के प्रमुख पर्यटन स्थल हैं अशोक स्‍तम्भ, बौद्ध स्‍तूप, विश्व शांति स्तूप।

भारत के प्रमुख मंदिरों के बारें में पढ़ें।
चार धाम यात्रा गाइड।
गंगोत्री यात्रा।

 

6. नालंदा

Nalanda University, Image source: Google Image
Nalanda University, Image source: Google Image

नज़दीकी रेलवे स्टेशन: बख्तियारपुर जंक्शन और खुसरोपुर जंक्शन
नज़दीकी हवाई अड्डा: पटना

प्राचीन विश्व में शिक्षा के सबसे बड़े केंद्र नालंदा विश्‍वविद्यालय की स्‍थापना 450 ई॰ में गुप्त शासक कुमारगुप्‍त ने की थी। नालंदा विश्व में शिक्षा – अध्ययन आदि का सबसे बड़ा केंद्र था। दुनिया भर के छात्र यहाँ पढाई करने आते थे। चीनी यात्री ह्वेनसांग ने 10 वर्षों तक नालंदा विश्वविद्यालय में बौद्ध दर्शन, धर्म और साहित्य का अध्ययन किया था। उसने दस वर्षों तक यहाँ अध्ययन किया। उसके अनुसार इस विश्वविद्यालय में प्रवेश पाना सरल नहीं था। यहाँ केवल उच्च शिक्षा प्राप्त छात्र ही प्रवेश पा सकते थे। प्रवेश के लिए पहले छात्र को परीक्षा देनी होती थी। इसमें उत्तीर्ण होने पर ही प्रवेश संभव था।

विश्वविद्यालय के छ: द्वार थे। प्रत्येक द्वार पर एक द्वार ब्राह्मण होता था। प्रवेश से पहले वो छात्रों की वहीं परीक्षा लेता था। बहुत कम छात्र ही इस परीक्षा में उत्तीर्ण हो पाते थे। यहाँ से स्नातक करने वाले छात्र का हर जगह सम्मान होता था। शिक्षा, आयुर्वेद, राजनीती, अर्थशास्त्र आदि के क्षेत्र में यहाँ अनेक शोध किये गये थे। 12वीं शताब्दी में बख़्तियार ख़िलजी ने आक्रमण करके इस विश्वविद्यालय को नष्ट कर दिया और सभी ग्रंथ जला दिये। अफ़सोस है की ऐसे अत्याचारी के नाम को यह शहर अभी तक ढो रहा है। यहाँ के प्रमुख रेलवे स्टेशन का नाम बख़्तियारपुर पुर ही है। 

 

7. गया

Bodhgaya, Image source: Google Image
Bodhgaya, Image source: Google Image

नज़दीकी रेलवे स्टेशन: गया जंक्शन और रफीगंज
नज़दीकी हवाई अड्डा: पटना

बौद्ध धर्म की स्थापना कर दुनिया में शांति का सन्देश देने वाले भगवान बुद्ध को गया में ही ज्ञान प्राप्‍त हुआ था। यहां का महाबोधि मंदिर इस शहर की शान है। इस कारण यह शहर बिहार के साथ – साथ सम्पूर्ण विश्व में प्रसिद्ध है। यह शहर तीन तरफ से छोटी – छोटी पहाडि़यों मंगला – गौरी, श्रींगा – स्‍थान, राम – शीला और ब्रहमायोनि से घिरा हुआ है जिसके पश्चिमी में फल्गु नदी बहती है। पूरी विश्व से बौद्ध भिक्षु यहां ज्ञान प्राप्त करने आते है।

गया, पितृपक्ष में किये जाने वाले पिण्डदान कर्म के लिये भी प्रसिद्ध है। यहाँ स्थित विष्णुपद मंदिर का निर्माण भगवान विष्णु के पैरों के निशान के कारण हुआ था। यहाँ का पितृपक्ष मेला तो देश और दुनिया में काफी प्रसिद्द है। कहा जाता है की यहाँ पिंडदान करने से मृत व्यक्ति को मोक्ष की प्राप्ति होती है।

 

8. केसरिया स्तूप, पूर्वी चंपारण

Kesariya Stupa, Image source: Google Image
Kesariya Stupa, Image source: Google Image

नज़दीकी रेलवे स्टेशन: सिवान जंक्शन और मुजफ्फरपुर जंक्शन
नज़दीकी हवाई अड्डा: पटना

केसरिया स्तूप भारत में सबसे बड़ा स्तूप माना जाता है। राजा चक्रवर्ती के शासन के दौरान 200 और 750 ईस्वी के बीच इस स्तूप का निर्माण कराया गया था। 104 फीट की ऊँचाई लिये हुए यह स्तूप वास्तुकला का एक शानदार नमूना है।

 

9. जल मंदिर, पावापुरी, नालंदा

Jal Mandir, Image source: Google Image
Jal Mandir, Image source: Google Image

नज़दीकी रेलवे स्टेशन: बख्तियारपुर जंक्शन और खुसरोपुर जंक्शन
नज़दीकी हवाई अड्डा: पटना

जल मंदिर, पावापुरी एक प्रसिद्ध जैन तीर्थ स्थल है। यह जैन धर्म के मतावलंबियो के लिये एक पवित्र शहर है। भगवान महावीर को मोक्ष की प्राप्ति यहीं हुई थी। इस खूबसूरत मंदिर का मुख्य पूजा स्थल भगवान महावीर की एक प्राचीन चरण पादुका है। यह उस स्थान को इंगित करता है जहां भगवान महावीर के पार्थिव अवशेषों को भूमिगत गया था।

 

10. पटना

Patna, Image source: Google Image
Patna, Image source: Google Image

नज़दीकी रेलवे स्टेशन: पटना जंक्शन
नज़दीकी हवाई अड्डा: पटना

गंगा नदी के किनारे बसा पटना बिहार की राजधानी होने के साथ – साथ सबसे बड़ा शहर है। प्राचीन भारत में इसे पाटलिपुत्र के रूप में जाना जाता था। सिख धर्म के अनुयायियों के लिये यह एक प्रमुख तीर्थ है क्योंकि दसवें गुरु गुरु गोबिंद सिंह का जन्म यहीं हुआ था और उन्ही की शान में यहाँ पटना साहिब गुरुद्वारा स्थित है। यहाँ के प्रमुख आकर्षण हैं बिहार संग्रहालय, गोलघर, बुद्ध स्मृति पार्क, हनुमान मंदिर, बड़ी पाटन देवी, छोटी पाटन देवी मंदिर, अगम कुआँ, किला हाउस और, शहीद स्मारक।

 

11. मुंगेर

Munger, Image source: Google Image
Munger, Image source: Google Image

नज़दीकी रेलवे स्टेशन: जमालपुर जंक्शन और बरियारपुर जंक्शन
नज़दीकी हवाई अड्डा: पटना

मुंगेर को बिहार के सबसे पुराने शहरों में से एक माना जाता है। बिहार स्कूल ऑफ़ योगा इस शहर की प्रमुख पहचान है। योग प्रेमियों के लिए मुंगेर एक जाना – पहचाना नाम है। इसलिए यदि आपको यहाँ विदेशियों भारी भीड़ मिले तो आश्चर्यचकित न हों।

यदि आप बिहार से हैं और बिहार के ऐसे किसी स्थान के बारे में जानते हैं जो प्रसिद्ध तो है किन्तु इस पोस्ट में नहीं है तो कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखें।

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of