चैन और सुकून चाहिये तो चैल आइये Trip to Chail

शिमला से मात्र 2 घंटे की ड्राइव पर स्थित चैल प्रकृति की गोद में बसा एक शांत और खूबसूरत हिल-स्टेशन है। शहरी जीवन की भाग दौड़ से जब मन ऊब जाये तो एक बार चैल आयें। रॉल्स रॉयस से शहर का कूड़ा उठवाने जैसी शानो-शौकत रखने के लिये प्रसिद्ध पटियाला के महाराजा भूपिंदर सिंह ने इस खूबसूरत हिल स्टेशन को बसाया था। यह प्यारा सा शहर उनके के लिये एक समर रिट्रीट था।

झील के किनारे बसे रेस्टॉरेंट में नाश्ता लंच करना, दुनिया के सबसे ऊंचे क्रिकेट ग्राउंड पर सैर करना और चैल वाइल्डलाइफ सेंचुरी में पक्षियों की चहचहाहट को सुनना… ऐसे अनुभव आपको चैल में आम तौर पर मिल जायेंगे। यदि आप किसी हिल स्टेशन के सैर पर जाने की योजना बना रहे हैं तो चैल को अपनी लिस्ट में शामिल कर सकते हैं।

चैल में घूमने के प्रमुख स्थान

चैल हिमाचल प्रदेश में घुमक्कड़ी के बहुत से स्थान हैं। आप ट्रैकिंग पर जा सकते हैं, किसी झील किनारे समय बिता सकते हैं, ‘स्कूल प्लेग्राउंड’ पर जा सकते हैं…. विकल्प बहुत हैं।

1. स्कूल प्लेग्राउंड

School Play Ground Image source: Google Image
School Play Ground Image source: Google Image

स्कूल प्लेग्राउंड चैल में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों की सूची में सबसे ऊपर है। स्कूल प्लेग्राउंड एक छोटा सा शहर है जो कभी महाराजा भूपिंदर सिंह की ग्रीष्मकालीन राजधानी के रूप में जाना जाता था, वे क्रिकेट के प्रति अपने प्रेम के लिये मशहूर थे। उन्होंने यहाँ क्रिकेट ग्राउंड बनवाया जो की दुनिया में सबसे अधिक ऊंचाई पर बना क्रिकेट ग्राउंड है। यह समुद्र तल से 7500 फीट की ऊंचाई पर स्थित है।

सैन्य अधिकारीयों द्वारा इस मैदान की देख रेख की जाती है क्योंकि यह एक छावनी क्षेत्र का एक भाग है। यहाँ पर्यटक घूमने और तस्वीरें क्लिक करने का आनंद ले सकते हैं, लेकिन उन्हें मैदान के मुख्य भाग में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है।

(थाची वैली हिमाचल की सैर)

2. साधुपुल झील

Sadhupul Lake Image source: Google Image
Sadhupul Lake Image source: Google Image

साधुपुल झील चैल में घूमने के लिए जाने – माने स्थानों में से एक है। यहाँ का मुख्य आकर्षण झील के बीच बना रेस्टॉरेंट है जो की मैगी और ब्रेड – ऑमलेट जैसे स्नैक्स सर्व करता है। झील के ठंडे पानी में पैरों को लटका कर बैठना और मैगी के साथ – साथ चाय का आनंद लेना और वो भी घनी हरियाली के बीच बहुत आनंद देता है। यह आपके लिये किसी लाइफ टाइम अनुभव से कम नहीं होगा।

3. चैल पैलेस होटल

Chail Palace Hotel Image source: Google Image
Chail Palace Hotel Image source: Google Image

वर्ष 1891 में निर्मित, चैल पैलेस का स्वामित्व पटियाला के महाराजा के पास था। जब से यह एक हेरिटेज होटल में परिवर्तित हुआ, यह हिमाचल प्रदेश के चैल में शीर्ष पर्यटक आकर्षणों में से एक बन गया है। शाही फर्नीचर और ऐतिहासिक इंटीरियर, महाराजा पटियाला की शाही जीवन शैली की याद दिलाते हैं।

आप चैल में ठहरने के लिए बहुत से कॉटेज उपलब्ध हैं लेकिन यदि आपकी जेब भारी है तो चैल पैलेस होटल से अच्छा कुछ नहीं। यहाँ स्थित कैफे पैलेस एक ओपन एयर डाइनिंग एरिया है, जहां आप न सिर्फ बेहतरीन खाने का आनंद ले सकते हैं, बल्कि प्रकृति की सुंदरता भी देख सकते हैं।

(उत्तराखण्ड के चार धामों की यात्रा गाइड)

4. काली का टिब्बा

Kali ka Tibba Image source: Google Image
Kali ka Tibba Image source: Google Image

काली का टिब्बा (काली मंदिर) एक पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। मंदिर के आसपास कुछ पेड़ों के अलावा कुछ भी नहीं है लेकिन पहाड़ी की चोटी पर स्थित होने के कारण यहाँ से दूर – दूर के नज़ारे देखे जा सकते हैं। साथ ही साथ यहाँ आप घुड़सवारी भी कर सकते हैं।

5. सिद्ध बाबा का मंदिर

चैल के प्रमुख आकर्षणों में से एक सिद्ध बाबा का मंदिर संत सिद्ध बाबा को समर्पित है। के किवदंती के अनुसार संत सिद्ध बाबा ने महाराजा भूपिंदर सिंह को स्वप्न में दर्शन दिये और बताया की इसी स्थान पर वे ध्यान लगाते थे और इसी के साथ उन्होंने राजा को मंदिर निर्माण का आदेश दिया। यह मंदिर चैल की संस्कृति का एक प्रमुख अंग बन चुका है।

6. गुरुद्वारा साहिब

चैल गुरुद्वारा साहिब के बारे में एक रोचक बात यह है कि यह एक चर्च की तरह दिखता है। इसे वर्ष 1907 में बनाया गया था लेकिन समय के साथ – साथ यह जर्जर होता गया। चैल हेरिटेज फाउंडेशन नामक एक एनजीओ ने इसे बहाल करने की पहल की और गुरूद्वारे का यह स्वरुप उसी की देन है। गुरुपूर्णिमा और बैसाखी जैसे त्योहारों के समय चैल गुरुद्वारा का रूप काफी आकर्षक होता है। यहाँ गुरूद्वारे के मुख्य कक्ष के साथ – साथ यात्रियों के लिये डोरमेट्री गेस्ट हाउस भी उपलब्ध हैं।

7. चैल वाइल्ड लाइफ सेंचुरी

Chail Wildlife Sanctuary Image source: Google Image
Chail Wildlife Sanctuary Image source: Google Image

यदि आप वन्यजीवों से प्रेम करते हैं, तो चैल वन्यजीव अभयारण्य निश्चित रूप से आपके लिए चैल में सबसे अच्छी जगहों में से एक है। 7152 फीट की ऊंचाई पर स्थित, यह अभ्यारण्य शानदार प्राकृतिक नज़ारों के साथ – साथ विभिन्न प्रकार पक्षियों और जानवरों के लिये जाना जाता है।

चैल वन्यजीव अभयारण्य में आप हिमालयी काला भालू, लंगूर, जंगली सूअर, यूरोपीय लाल हिरण, उड़ने वाली गिलहरी सहित विभिन्न प्रकार के जानवरों को देख सकते हैं। यहाँ प्रवेश निःशुल्क है।

8. हिमालयन नेचर पार्क

कुफरी में स्थित हिमालयन नेचर पार्क चैल के पास सबसे अच्छे वन्यजीव वाले स्थानों में से एक है। यहां आप हिरण, भालू, तिब्बती भेड़िये, तेंदुए, और तीतर आदि देख सकते हैं। शॉपिंग के शौकीन यहाँ आस – पास स्थित दुकानों से हस्तशिल्प और हथकरघे आदि से जुड़े सामान भी खरीद सकते हैं। बेहतर है की आप एक टूर गाइड साथ ले जायें। यह स्थान चैल से 30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

9. गौरा और झज्जा

Gaura and Jhhajja Image source: Google Image
Gaura and Jhhajja Image source: Google Image

यदि आप ट्रैकिंग के शौक़ीन हैं तो आप गौरा और झज्जा के पथरीले रास्तों पर ट्रैकिंग आपको पसंद आयेगी। पहाड़ों की ठंडी और शांत हवा का आनंद लेते हुए देवदार के ऊंचे पेड़ों की छाया में चलना यहाँ बहुत आनंद देता है। ट्रेक पर प्रवेश निःशुल्क है।

(अमरनाथ यात्रा गाइड)

चैल तक कैसे पहुंचे ?

चैल तक पहुँचने के कई रास्ते हैं जिनमे कालका – सोलन – कंडाघाट – चैल प्रमुख है। आप ट्रेन, बस या फ्लाइट का विकल्प चुन सकते हैं।

रेल मार्ग: 81 किमी की दूरी पर कालका निकटतम रेलवे स्टेशन है प्रमुख रेलमार्ग है। वैसे आप शिमला भी उतर सकते हैं। दोनों स्थानों से चैल तक पहुँचने के लिए बस और टैक्सी उपलब्ध हैं।

सड़क मार्ग: चैल की लिये शिमला के अलावा दिल्ली के कश्मीरी गेट ISBT से भी बसें उपलब्ध हैं। आप चंडीगढ़ और कालका से भी बसें ले सकते हैं।

वायु मार्ग: चैल से निकटतम हवाई अड्डा शिमला में स्थित है चंडीगढ़ में स्थित है। यहाँ से चैल के लिये बस और टैक्सी आदि उपलब्ध हैं।

चैल जाने का सही समय

यदि आप सोच रहें हैं की चैल जाने का सबसे सही समय क्या है, तो हम शांत करेंगे आपकी जिज्ञासा को।

गर्मी (मार्च के मध्य से जून के अंत तक) – चैल जाने के लिए यह सबसे अच्छा समय माना जाता है। कई पर्यटक चिलचिलाती गर्मी से राहत पाने के लिए यहाँ आते हैं। चैल में इस दौरान मौसम खुशनुमा बना रहता है।

शरद ऋतु (सितंबर से नवंबर) – यह समय भी चैल जाने के लिये उपयुक्त है। इस समय खुशनुमा मौसम के साथ – साथ कम ही पर्यटक मिलेंगे और इस प्रकार होटल बुकिंग भी सस्ती पड़ेगी।

सर्दी (दिसंबर से मध्य मार्च) – सर्दियों में चैल में बर्फबारी होती है। बर्फबारी देखने के इच्छुक लोगों के लिए यह एक आदर्श समय है। हालांकि, गर्म कपड़ों का अच्छा प्रबंध रखें।

कहाँ रुकें ?

चैल में बहुत से होटल, गेस्ट हाउस और फार्म हाउस आदि उपलब्ध हैं। इन्ही में से एक है ‘My Farm House Chail’। प्रकृति की गोद में बसा यह छोटा सा फार्म हाउस यहाँ रुकने का एक अच्छा विकल्प है। यहाँ आप +91 8278843606 पर कॉल करके बुकिंग कर सकते हैं।

My Farm House Chail
My Farm House Chail

तो इस बार आपकी शिमला यात्रा केवल शिमला तक ही सिमित न रह जाये, चैल भी आयें।

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of