Great Himalayan National Park

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क की यात्रा Trip to Great Himalayan National Park

बर्फ़ से ढकी हुई हिमालयी चोटियां, अल्पाइन वनस्पति और अनोखे जीवों के लिये जाना जाने वाला ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क हिमाचल प्रदेश (GHNP) का सबसे बेहतरीन और खूबसूरत स्थलों में शुमार हैं। सेराज फारेस्ट डिवीजन में कुल्लू से लगभग 60 किमी दूर स्थित, ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क एक ऐसी जगह है, जो जीवन और ताजगी से भरपूर है।

रूपी भाभा अभयारण्य, पिन वैली नेशनल पार्क और कंवर वन्यजीव अभयारण्य से घिरा हुआ ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क 1500 से 6000 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है और 754 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है। इस इको जोन में 160 गांव भी शामिल हैं।

यूनेस्को के विश्व विरासत स्थलों में शामिल ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क तक पहुँचने का एकमात्र रास्ता ट्रैकिंग है। यहाँ तक पहुँचने का ट्रेक तीर्थन घाटी में स्थित एक छोटे से शहर गुसैनी से शुरू होता है, जो की ट्रेकर्स को खूबसूरत तीर्थन नदी के किनारों से होते हुए ले जाता है। यकीन मानिये एक खूबसूरत हिमालयी ट्रेक की जो तस्वीर आपने अपने मन बसा रखी है यह ट्रेक उससे कहीं बढ़ कर है। पर्यटक आमतौर पर गुसैनी तक पहुँचने के लिये टैक्सी लेते हैं जहाँ से यह ट्रेक शुरू होता है।

Great Himalayan National Park Image source: Google Image
Great Himalayan National Park Image source: Google Image

यहाँ कुल 832 प्रकार के पेड़ – पौधे, 74 प्रकार के उभयचर , 218 प्रकार की मछलियाँ, सरीसृपों की 149 प्रजातियाँ, पक्षियों की 528 प्रजातियाँ और 241 प्रजातियों के स्तनधारी जीव देखे जा सकते हैं। मुख्य रूप से देवदार और ओक के पेड़, औषधीय जड़ी-बूटियों सहित विभिन्न प्रकार के पौधों की प्रजातियां यहाँ पायी जाती हैं। कम ऊंचाई पर भी, कुछ अल्पाइन घास के मैदान हैं, जो चराई के लिए साफ किए जाते हैं।

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क में की जाने वाली गतिविधियाँ

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क ट्रेकर्स के बीच काफी लोकप्रिय है। इस पार्क में मुख्य रूप से तीन मध्यम से कठिन ट्रेकिंग मार्ग है। ये हैं सैंज घाटी, गुसैनी से पार्वती घाटी, सैंज से 6 मीडोज।

कैसे प्लान करें और कहां रहें ?

यहाँ रुकने और घूमने के लिए सबसे विश्वसनीय और आरामदायक विकल्प यही है की आप किसी ट्रेक आर्गेनाइजर की सहयता ले लें। वे आपको गाइड, पोर्टर, और रुकने के साधन उपलब्ध करवा देंगे। सनशाइन एडवेंचर्स यहाँ के सबसे प्रसिद्द ट्रेक ऑपरेटर्स में से एक है जो की होमस्टे उपलब्ध करवाते हैं। त्रिशला गेस्ट हाउस भी एक विश्वसनीय जगह है।

यात्रियों के लिए टिप्स

  • ज़्यादातर ट्रेकिंग रुट्स खड़ी चढ़ाई वाले हैं, अतः उपयुक्त जूते पहने।
  • ट्रेक के दौरान सूखे मेवे, आवश्यक दवाएं और पानी ले जाएं।
  • सुनिश्चित करें कि आप ट्रेक के लिए शारीरिक रूप से फिट हैं।
  • ट्रेकिंग के लिए एक पंजीकृत गाइड ही हायर करें।
  • बिना परमिट प्रवेश करने का प्रयास न करें।
  • रुकने के ठिकाने सीमित ही हैं। इसलिये एडवांस बुकिंग करें।
  • कैंपिंग के लिए टेंट, स्लीपिंग बैग, आवश्यक बर्तन और चूल्हा आदि लेकर जायें।
(गर्मियों में उत्तराखण्ड के ठिकाने)

सबसे उपयुक्त समय

मार्च से जून और मध्य सितंबर से नवंबर तक का समय सुंदर वनस्पतियों और जीवों को देखने के लिए और मौसम के लिहाज़ से भी सबसे अच्छा समय है। बहुत से ट्रैकिंग एजेंसियां इस दौरान ट्रेक्स का आयोजन करती है। अत्यधिक ठंड और सर्द मौसम और बर्फबारी के कारण सर्दियों के महीनों में यात्रा करने की सलाह नहीं दी जाती है। सर्दियों में में केवल कम ऊंचाई वाले ट्रेक आयोजित किए जाते हैं।

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क में प्रवेश शुल्क और परमिट

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क में प्रवेश परमिट द्वारा ही होता है और इस नियम का सख्ती से पालन किया जाता है। शमशी, शिरोपा और रोपा से परमिट प्राप्त किया जा सकता है। भारतीयों के लिये परमिट शुल्क 100 रुपये प्रति दिन और विदेशी नागरिकों के लिए 400 रुपये प्रति दिन है। छात्रों के लिए प्रवेश रियायती शुल्क पर उपलब्ध हैं। भारतीय छात्रों के लिए प्रवेश शुल्क 50 रुपये और विदेशी छात्रों के लिए 250 रुपये प्रति दिन है। वीडियोग्राफी का शुल्क अतिरिक्त है।

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क कैसे पहुंचे ?

Gushaini
Gushaini

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क का ट्रेक तीर्थन वैली के गुसैनी शुरू होता है और तीर्थन वैली की दिल्ली से दूरी 550 किलोमीटर है।

(उत्तराखण्ड के चार धाम की यात्रा गाइड)

सड़क मार्ग

दिल्ली के कश्मीरी गेट ISBT से मनाली के लिए बहुत सी बसे उपलब्ध हैं और सभी शाम के समय ही चलती हैं। यह बसें बहुत आरामदायक और अच्छी होती हैं। ये बस आपको सुबह अगली सुबह कुल्लू के औट पहुंचा देगी। औट मनाली से 2 घंटे पहले की दूरी पर स्थित है। औट से आप बंजार / गुसैनी या सैंज / निहारनी (जहाँ से भी आप ट्रैकिंग शुरू करना चाह रहे हैं) लिये टैक्सी या बस ले सकते हैं।

हवाई मार्ग

ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क तक पहुँचने के लिए निकटतम हवाई अड्डा कुल्लू के भुंतर में है, जो की लगभग 60 किमी दूर है। भुंतर पहुंचने के लिए दिल्ली से फ्लाइट उपलब्ध हैं।

रेल द्वारा

निकटतम रेलवे स्टेशन जोगिंदर नगर (मंडी के पास) स्थित है जो की गुसैनी से लगभग 143 किमी दूर है। दिल्ली और चंडीगढ़ से ट्रेनें नियमित रूप से जोगिंदर नगर की ओर जाती हैं।

हम यहाँ यह नहीं कहते की ‘हिमालया इज़ कॉलिंग यू’, आप को प्रकृति का आनंद लेना है तो अपने कम्फर्ट जोन को स्वयं छोड़ना होगा।

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of